June 22, 2024
Critical Drugs: जरूरी दवाइयो पर सरकार द्वारा फिक्स होंगा मार्जिन, लगेंगी इनके कीमतों पर लगाम

Critical Drugs: जरूरी दवाइयो पर सरकार द्वारा फिक्स होंगा मार्जिन, लगेंगी इनके कीमतों पर लगाम

Critical Drugs: नई दिल्‍ली. देश में जल्‍द ही शुगर, दिल और गुर्दे के इलाज में काम आने वाली कई महत्‍वपूर्ण दवाइयां सस्‍ती हो सकती हैं.

केंद्र सरकार ने इन दवाओं की कीमतों में कटौती करने के लिए ट्रेड मार्जिन को फिक्‍स करने की तैयारी कर ली है. ट्रेड मार्जिन दरअसल,

 मैन्युफैक्चरर की ओर से जारी होने वाली थोक बिक्री मूल्‍य और उपभोक्‍ता को मिलने वाले अधिकतम खुदरा मूल्‍य के बीच का अंतर होता है.

ड्रग प्राइस वॉचडॉग नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA) पिछले कई महीनों से इस योजना पर काम कर रहा है. The Hind Media को स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है.

ट्रेड मार्जिन को चरणबद्ध तरीके से तर्कसंगत बनाया जाएगा तथा इस पूरी प्रक्रिया को लागू करने के लिए दवा इंडस्‍ट्री को समय दिया जाएगा,

ताकि दवा उद्योग आवश्‍यक बदलाव कर सके. सूत्र ने बताया कि सरकार पहले ही एंटी-कैंसर कैटेगरी की दवाओं का मार्जिन घटा चुकी है.

Critical Drugs: जरूरी दवाइयो पर सरकार द्वारा फिक्स होंगा मार्जिन, लगेंगी इनके कीमतों पर लगाम

इसी तरह इस बार एंटी-डायबिटिक और किडनी की बीमारियों से संबंधित दवाओं का मार्जिन घटाया जाएगा.

गौरतलब है कि 2018-19 में NPPA ने नॉन शेड्यूल्‍ड एंटी कैंसर की 42 दवाओं पर ट्रेड मार्जिन घटा दिया था. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मनसुख मंडाविया ने लोकसभा में बताया था

कि सरकार के इस कदम से इन दवाओं के 526 ब्रांड की एमआरपी 90 फीसदी तक कम हो गई.

Critical Drugs कीमत के साथ बढ़ जाता है ट्रेड मार्जिन


एपीपीए द्वारा की गई स्‍टडी से पता चला था कि एक गोली की कीमत के साथ ही ट्रेड मार्जिन बढ़ जाता है. अगर ज्‍यादातर ब्रांड की एक टेबलेट की कीमत 2 रुपये है तो,

इस पर मार्जिन 50 फीसदी रहता है. वहीं अगर इसकी कीमत 15 से 25 रुपये है तो मार्जिन 40 फीसदी से कम ही रहता है.

50 से 100 रुपये कीमत वाली टेबलेट कैटेगरी की कम से कम 2.97 फीसदी मेडिसिन में ट्रेड मार्जिन 50 से 100 फीसदी, 1.25 फीसदी

इन मेडिसिन में ट्रेड मार्जिन 100 से 200 फीसदी के बीच और 2.41 ऐसी दवाओं का ट्रेड मार्जिन 200 फीसदी से लेकर 500 फीसदी तक है.

एनपीपी के अनुसार अगर किसी टेबलेट की कीमत 100 रुपये से ऊपर है तो उसे महंगी श्रेणी में रखा जाता है.

ऐसी टेबलेट में से 8 फीसदी टेबलेट पर मार्जिन 200 से 500 फीसदी, 2.7 फीसदी दवाओं पर 500 से 1,000 फीसदी और 1.48 प्रतिशत टेबलेट्स पर ट्रेड मार्जिन 1,000 फीसदी से ऊपर है.

Critical Drugs: जरूरी दवाइयो पर सरकार द्वारा फिक्स होंगा मार्जिन, लगेंगी इनके कीमतों पर लगाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Chimichurri Sauce Awesome Pasta Salad Kadife tatlısı nasıl yapılır? Evde kolayca hazırlayabileceğiniz pratik tatlı tarifi! Hülya Avşar: Fazla zenginlik insana zarar veriyor Amitabh Bachchan Net Worth: कितनी है अमिताभ बच्चन की नेटवर्थ? अपनी संतान अभिषेक और श्वेता को देंगे इतने करोड़ की प्रॉपर्टी!